संज्ञा किसे कहते है ? संज्ञा के भेदों के बारें में पढिये

संज्ञा (Sangya) - परिभाषा, भेद और उदाहरण 

परिभाषा – किसी व्यक्ति, गुण, प्राणीजाति, स्थान (जगह), वस्तु, क्रिया और भाव आदि के नाम को संज्ञा कहा जाता है।

उदाहरण :- पशु (जाति), सुंदरता (गुण), व्यथा (भाव), मोहन (व्यक्ति), दिल्ली (स्थान), मारना (क्रिया)।

वाक्यों में उदाहरण :-

  • श्याम” खाना खा रहा है = श्याम व्यक्ति का नाम है।
  • अमरुद” में मिठास है = अमरूद फल का नाम है।
  • घोडा” दौड़ रहा है = घोड़ा एक पशु का नाम है।
संज्ञा के भेद (प्रकार)

मूलतः संज्ञा के तीन भेद (प्रकार) होते हैं –

१.जातिवाचक संज्ञा,

२.भाववाचक संज्ञा और

३.व्यक्ति वाचक संज्ञा

परन्तु अंग्रेजी व्याकरण के प्रभाव के कारण कुछ विद्वान संज्ञा के दो भेद (प्रकार) और भी मानते हैं –

4.समुदायवाचक या समूह वाचक संज्ञा और

5.द्रव्यवाचक संज्ञा। 

संज्ञा के भेदों की परिभाषा,उदाहरण सहित 
  1. जातिवाचक संज्ञा

जिस शब्द से किसी प्राणी या वस्तु की समस्त जाति का बोध होता है,उन शब्दों को जातिवाचक संज्ञा कहते हैं।

उदाहरण

  • वस्तु : मोटर साइकिल, कार, टीवी, मोबाइल आदि
  • स्थान : पहाड़, तालाब, गाँव, मंदिर आदि।
  • प्राणी : लड़का, लड़की, घोड़ा, शेर आदि।

2.भाववाचक संज्ञा-

जिस शब्द से किसी वस्तु, पदार्थ या प्राणी की दशा, उसकी स्थिति और भाव का पता चलता हो उस संज्ञा शब्द को भाववाचक संज्ञा कहते हैं।

उदाहरण-

  • बुढ़ापा – बुढ़ापा जीवन की एक अवस्था है।
  • मिठास – मिठास मिठाई का गुण है।
  • क्रोध – क्रोध एक भाव या दशा है।
  • हर्ष – हर्ष एक भाव या दशा है।
  • यौवन – यौवन स्त्री की एक दशा है।
  • बालपन – बालपन बालक का गुण है अथवा एक दशा और अवस्था है।
  • मोटापा – मोटापा एक अवस्था है जो मोटापे का इंगित करता है।

3.व्यक्ति वाचक संज्ञा

 जिन शब्दों से किसी विशेष व्यक्ति, स्थान अथवा वस्तु के नाम का बोध हो, उसे व्यक्ति वाचक संज्ञा कहते हैं।

उदाहरण:-

  • राम – व्यक्ति का नाम है
  • श्याम – व्यक्ति का नाम है
  • कुर्सी – बैठक का एक साधन है किन्तु एक नाम को सूचित कर रहा है इसलिए यह व्यक्तिवाचक है।
  • कार – यातायात का एक साधन है , किन्तु सम्पूर्ण यातायात नहीं है कार एक माध्यम है। इसके कारण यह एक व्यक्ति को इंगित कर रहा है।
  • दिल्ली – एक राज्य है किन्तु पूरा देश नहीं इसलिए यह व्यक्तिवाचक है।

हालांकि प्रमुखता से संज्ञा को तीन ही भागो में बांटा गया है लेकिन बाद में इसमे दो प्रकार और जोड़ दिए गये जो इस तरह है – 

4.समुदायवाचक या समूह वाचक संज्ञा

जिन संज्ञा शब्दों से किसी एक व्यक्ति का बोध न होकर पुरे समूह / समाज का बोध हो वह समूह वाचक / समुदायवाचक संज्ञा होता है।

उदाहरण:-

  • सेना – सेना में कई सैनिक होते है। यहाँ समूह की बात हो रही है।
  • पुलिस – पुलिस हर स्थान , राज्य , देश में होते है। उसी बड़े रूप को इंगित किया जा रहा है।
  • पुस्तकालय – पुस्तकालय में अनेक पुस्तक होते है। यहाँ किसी एक पुस्तक की बात नहीं हो रही है।
  • दल – अनेक व्यक्तिों से मिलकर एक दल , या समूह का निर्माण होता है।
  • समिति – अनेक व्यक्तिों से मिलकर एक समिति , या समूह का निर्माण होता है।
  • आयोग – आयोग का गठन किसी खास उद्देश्य के लिए किया जाता है , इसमें अनेक सदस्य होते है।
  • परिवार – एक परिवार में अनेक सदस्य हो सकते है यहाँ तक की 2 -3 पीढ़ी भी।

5.द्रव्यवाचक संज्ञा। 

जो शब्द किसी पदार्थ, धातु और द्रव्य को दर्शाते हैं उन शब्दों को द्रव्यवाचक संज्ञा शब्द कहा जाता है।

उदाहरण:-

  • गेहूं – भोजन की सामाग्री है।
  • चावल – भोजन की सामाग्री है।
  • घी – भोजन की सामाग्री है।
  • सोना – आभूषण के लिए एक द्रव्य या पदार्थ है।
  • चांदी – आभूषण के लिए एक पदार्थ है।
  • तांबा – एक धातु है।
  • ऊन – ऊन वस्त्र बनाने की एक सामाग्री है।

इस तरह से संज्ञा की परिभाषा उसके भेद (प्रकार) से सम्बन्धित यह पाठ समाप्त हुया,आपके सुझाव हमें कमेन्ट करके बताएं जिससे हम और भी  व्याकरण सम्बन्धी जानकारी आप तक पहुंचाते रहें 

 

3 thoughts on “संज्ञा किसे कहते है ? संज्ञा के भेदों के बारें में पढिये”

  1. Pingback: कारक की परिभाषा,कारके के भेद (प्रकार) उदाहरण सहित – Study Sutra

  2. Pingback: सर्वनाम की परिभाषा,सर्वनाम के भेद(प्रकार) उदाहरण सहित - Study Sutra

  3. Pingback: विशेषण की परिभाषा,विशेषण के भेद(प्रकार), उदाहरण सहित - Study Sutra

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *